राजस्थान में गुर्जर आरक्षण आंदोलन, सरकार को 20 दिन का दिया अल्टीमेटम दो ट्रेनें रद्द, 20 का रूट डायवर्ट

903

यात्रियों के लिए हेल्पलाइन नंबर 0744-2467153, 0744-2467149 जारी

नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव से पहले राजस्थान में गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के सदस्य फिर प्रदर्शन पर उतर आए हैं, जिसकी वजह से सड़क और रेलवे सेवा बाधित है। गुजरों ने रेलवे ट्रैक और हाईवे को ब्लॉक कर रखा है। वह राज्य की सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में 5% आरक्षण की मांग कर रहे हैं।       
आज इसी मांग को लेकर गुर्जर समाज ने महापंचायत की, पंचायत के बाद आंदोलन का ऐलान किया। गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला गुर्जरों का नेतृत्व कर रहे हैं। आंदोलन के कारण सवाई माधोपुर और बयाना जंक्शन रेल सेक्शन के बीच रेल यातायात प्रभावित है। दिल्ली-मुंबई रूट पर चलने वाली 22 ट्रेनें प्रभावित हैं। इनमें से दो ट्रेनों को रद्द किया गया है और बीस ट्रेनों को डायवर्ट किया गया है। वहीं यात्रियों के लिए हेल्पलाइन नंबर (0744-2467153, 0744-2467149) भी जारी किया गया है।

बता दें कि गुर्जरों ने सरकार को 20 दिन का अल्टीमेटम दिया था। इस बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुर्जर आरक्षण आंदोलनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने पहले भी उनकी बात सुनी थी और अब भी सुनेगी। गहलोत ने कहा कि सरकार समाधान के लिए बेहद गंभीर है और राज्य सरकार के स्तर पर गंभीर प्रयास किया गया है। राज्य पुलिस ने गुर्जर बहुल इलाकों में अलर्ट जारी कर रखा है जिसमें दौसा, भरतपुर और अजमेर शामिल हैं। गुर्जरों की मांग है कि उन्हें अलग से पांच प्रतिशत आरक्षण दिया जाए।