तरनतारन साहिब की ऐतिहासिक दर्शनी डियूड़ी गिराने वालों पर मुकद्दमा दर्ज होः सिख तालमेल कमेटी

528

जालंधर (हरीश शर्मा). 200 साल पहले नौनिहाल सिंह की तरफ से बनाई गई दरबार साहिब तरनतारन की दर्शनी डियूड़ी को शिरोमणि कमेटी ने साजिश के तहत सेवा के नाम पर बाबा जगतार सिंह के साथ मिलकर गिरा दी है। सिख कौम की विरासत और यादगारों को खत्म किया जा रहा है ताकि आरएसएस को खुश किया जा सके।

सिख नेता तजिंदर सिंह परदेसी, सतपाल सिंह सिद्दकी, हपाल सिंह चड्ढा, हरप्रीत सिंह नीटू, परमिंदर सिंह दशमेश नगर ने एक सांजे बयान में कहा कि सेवा के ना पर सिख कौम की ऐतिहासिक यादों को नुकसान पहुंचाया जा रहा है और धर्म के ठेकेदारों की जुबान पर ताले लगे हुए हैं। अगर कौम अभी भी नहीं जागी और न पहचान पाई कि क्या गलत हुआ है तो इन्होंने सिख कौम का सारा इतिहास खत्म कर देना है। सिख नेताओं ने कहा कि हमें इनके पर सिख भावनाओं को आहत करने का मुकद्दमा दर्ज करवाएंगे। सिख तालमेल कमेटी जालंधर के सिख जत्थेबंदियों को साथ लेकर जिला प्रशासन से मिलकर इनके खिलाफ कार्रवाई करवाने के लिए मिलेंगे। इस मौके पर गुरजीत सिंह सतनामिया, हरप्रीत सिंह रोबिन, अमनदीप सिंह, बग्गा, प्रभजोत सिंह, लखबीर सिं लक्की, मनमिंदर सिंह भाटिया, जतिंदर सिंह कोहली, भूपिंदर सिंह, बड़िंग, हरप्रीत सिंह, रणजीत सिंह, जोगिंदर पाल सिंह खालसा, अरविंदर पाल सिंह और बबलू शामिल थे।