केपी को मनाने के लिए पद्मश्री भी मैदान में…केपी की कोठी में कांग्रेस के दो भाई व मंत्री भी पहुंचे…केपी बोले परिवार के साथ बैठक के बाद ही फैसला होगा

1754


जालंधर। पूर्व सांसद मोहिंदर सिंह केपी को मनाने के लिए शनिवार को पद्मश्री परगट सिंह भी मैदान मेंं आ गये। वह जेल मंत्री सुक्खी रंधावा के साथ केपी की कोठी पर पहुंचे। जहां पर कांग्रेस के पूर्व विधायक कमलजीत सिंह लाली के अलावा उनका भाई सुक्खा लाली भी था।
रंधावा को पहले वर्करों ने खासी खरी खोटी सुनायी की कि केपी साहब का टिकट काटा ही क्यों गया ? 2014 में उनको जालंधर से भेजा गया क्यों भेजा गया था ? उनको होशियारपुर अचानक भेजा गया, जहां नया इलाका होने के बाद वह महज 13 हजार मतोँ से हार गये। फिर उनका विधानसभा हलका बदला गया ? एक नेता जो इस कदर शरीफ है, हाईकमान का पूरा कहना मानता है, यह बात नहीं कि उसका हलका बदल दिया जाए और फिर उसका टिकट काट दिया जाये।
जेल मंत्री सुक्खी रंधावा ने तमाम वर्करों की लंबी बातें सुनी और बाद में उनहोंने पद्मश्री परगट सिंह, सुक्खा लाली, कंवलजीत लाली के साथ बैठक की, जिसमें केपी भी बैठे। इसके बाद एक बैठक केपी के रिश्तेदार व सुक्खी रंधावा के बीच हुई, जिसमें केपी के परिवार ने पूरी भड़ास निकाली। अभी केपी माने नहीं है लेकिन मामला राहुल गांधी तक पहुंच चुका है।