अरुण जेटली जी को भाजपा कार्यकर्ताओं ने दी नम आँखों से भावभीनी श्रद्धांजलि Iकुशल राजनीतिज्ञ के साथ-साथ दयालु हृदय थे जेटली जी, उनकी कमी हमेशा हर देशवासी को खलेगी : श्वेत मलिक

763

जालंधर:रोज़ाना भास्कर.( हरीश शर्मा)भारत की राजनीति के दिग्गज राजनीतिज्ञ, प्रखर वक्ता, सफल अधिवक्ता, कुशल संगठनकर्ता, राजनीति के चाणक्य, पक्ष-विपक्ष के चहेते नेता और पूर्व वित्त मंत्री श्रीअरुण जेटली जी के निधन पर जहाँ सारा देश शोक में डूबा है, वहीँ भाजपा जालंधर के कार्यकर्ता भी गमगीन हैं I स्वर्गीय श्री अरुण जेटली जी को अपने दिलों में बसाने वाले भाजपा कार्यकर्ता श्रद्धा-सुमन अर्पित करके उन्हें श्रदांजलि दे रहे हैं, इसी कड़ी में जिला जालंधर भाजपा अध्यक्ष रमन पब्बी की अध्यक्षता में स्थानीय महावीर जैन भवन में एक शोक सभा राखी गयी जिसमे प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व राज्यसभा सांसद श्वेत मलिक भी पहुँचे उनके साथ प्रदेश महामंत्री राकेश राठौर प्रदेश उपाध्यक्ष महेंद्र भगत आरपी मित्तल प्रदेश अध्यक्ष भारतीय जनता युवा मोर्चा सनी शर्मा पूर्व विधायक मनोरंजन कालिया समस्त भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं ने श्री अरुण जेटली को अपने श्रद्धा-सुमन अर्पित किये I

शोकसभा में श्रद्धांजलि देते हुए मलिक ने कहाकि श्री अरुण जेटली के निधन से समस्त भाजपा परिवार सदमे है I उनके निधन से देश सहित भाजपा परिवार को कभी न पूरी होने वाली क्षति हुई है I हमने एक कुशल व पंजाब की जनता की आवाज़ व प्रतिनिधित्व करने वाला, पंजाब व पंजाबियत को अपने दिल से गले लगाने वाला पंजाब प्रदेश का प्रतिनिधि खो दिया है I मलिक ने कहाकि श्री अरुण जेटली उनके राजनीतिक गुरु थे I वह एक कुशल राजनेता के साथ-साथ कुशल वकील भी थे I मलिक ने बताया कि जेटली जी हर गरीब की मुश्किल हल करने के लिए मसीहा का काम करते थे I उन्होंने आपने जीवन काल में अपने घर में काम करने वाले वर्करों सहित कई गरीब परिवारों के बच्चों को देश-विदेश में अच्छी शिक्षा दिलवा कर उनका जीवन सफ़ल बनाया I

मलिक ने कहाकि जेटली जी का राजनीतिक जीवन बहुत शानदार व् बेदाग़ था I अपने राजनीतिक जीवन के दौरान जेटली जी ने कई मंत्रलयों की जिम्मेदारी संभाली और उन्हें सफलतापूर्व सही दिशा दी । दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र संघ से राजनीति में पदार्पण करने वाले जेटली जी पहली बार अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्री बनाए गए थे । उसके बाद उन्होंने वाणिज्य से लेकर रक्षा, कॉरपोरेट, वित्त जैसे कई मंत्रलयों में अपना योगदान दिया व् उन्हें सफलतापूर्वक आगे बढ़ाया । आर्थिक विकास, रक्षा क्षमता को मजबूत करने, लोगों के अनुकूल कानून बनाने और दूसरे देशों के साथ व्यापार बढ़ाने में उनकी अहम भूमिका रही । मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में बतौर वित्त मंत्री के रूप में जनधन, मुद्रा योजना और जीएसटी जैसे फैसलों के लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा । राफेल मामले पर विपक्ष द्वारा सवाल खड़े करने पर वह सरकार के लिए ढाल बनकर खड़े रहे I
मलिक ने बताया कि जेटली जी शायरी के भी बहुत शौक़ीन थे, उन्होंने 2015 व 2016 में बजट के दौरान कुछ शेयर बोले थे “कुछ तो फूल खिलाये हमने, कुछ और खिलाने हैं, मुश्किल यह है बाग़ में, अब तक कई कांटे पुराने हैं I” ” किश्ती चलाने वालों ने हार कर जब दी पतवार हमें, लहर-लहर तूफ़ान मिले मौज-मौज मंझधार हमें, फिर भी दिखाया है हमने और फिर दिखा देंगे, इन हालातों में आता है दरिया पार करना हमें I”
मलिक ने कहाकि जेटली जी का पंजाब की राजनीती से भी उनका बहुत ही करीबी रिश्ता था I अमृतसर में उनके ननिहाल थे और उनका अमृतसर से बहुत ही गहरा लगाव था I उन्होंने अपने इसी लगाव के चलते अमृतसर से लोकसभा चुनाव भी लड़ा I अपने मंत्री पद पर के कार्यकाल के दौरान उन्होंने पंजाब को पहल के आधार पर रखा और यहाँ पर आई.आई.एम्. जैसे देश के प्रख्यात शिक्षण संस्थान को शुरू करवाया I इसके इलावा पंजाब के कई शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने के प्रोजक्ट को भी उन्होंने अपने प्रयास से मंजूर करवाया और इस पर शहरों में काम भी शुरू करवाया I मलिक ने कहाकि पंजाब को श्री अरुण जेटली जी की देन को कभी भुलाया नहीं जा सकता I उनकी याद पंजाब के हर भाजपा कार्यकर्ता के दिल में अमिट छाप बन कर रहेगी I
राकेश राठौर ने शोक सभा के दौरान श्रद्धांजलि देते हुए कहाकि जेटली जी के निधन के साथ संगठन और भाजपा कार्यकर्त्ता को बहुत नुक्सान हुआ है, उनकी कमी कभी पूरी नहीं होगी I उन्होंने कहाकि आज पूरा देश सदमे और गम में डूबा है I जेटली जी का सारा जीवन हर एक लिए हमेशा प्रेरणास्त्रोत रहा है और हमें उनके दर्शाये मार्ग पर चल कर संगठन और देश की सेवा के लिए तत्पर रहना चाहिए I
इस अवसर पर उपस्थित अशोक गांधी,सुभाष सूद,शिव दयाल चुग, दीवान अमित अरोड़ा, जंगी लाल महाजन ,विनोद शर्मा, बहन प्रवीण शर्मा,सीमा साहनी, सुखबीर कौर चट्ठा ,रवि महेंद्रू, राजीव धींगरा ,राजू मांगो, किशन लाल शर्मा,अश्विनी गर्ग,अमित सिंह सधा, संजीव शर्मा मनी, अमित भाटिया,बलदेव चौहान,गुरमीत चौहान,विनीत धीर,रंजीत आर्या, डॉक्टर वनीत शर्मा ,किशन लाल शर्मा,रजिंदर गोसाई,राजेश कुमार आरके,सौरभ सेठ,अजय महंत, रजिंदर बहल,हितेश स्याल, अमरजीत सिंह राही,अजय जुल्का,अमरजीत सिंह गोल्डी, दिनेश शर्मा,पंकज सारंगल, जय कल्याण ,बाबू अरोड़ा, राजन शर्मा ,अर्जुन खुराना ,जीके सोनी, नीरज गुप्ता ,वरुण नागपाल, उपस्थित थे I