युवक राजनीतिज्ञों को ये संदेशा देने की कोशिश कर रहे थे कि आज शहीदों की प्रतिमाएं फोटो और सैल्फी खिंचवाने के लिए ही रह गई हैं

जालंधर. 23 मार्च का दिन जिसे पूरा भारत शहीदी दिवस के नाम मनाता है, आज के दिन शहीद भगत सिंह, शहीद राजगुरू, शहीद सुखदेव सिंह ने हंसते-हंसते फांसी को गले लगाया था और वह शहीदी को प्राप्त किया था। इसी शहीदी दिवस पर महानगर में कांग्रेसी और भाजपाईयों ने शहीदों के साथ सैल्फी और फोटो खिंचवाने पहुंचे।

वहीं शहीदों की प्रतिमा के निकट कुछ युवक खड़े हुए थे जिन्होंने बैनरों पर कुछ लिखकर उन्हें गले में डाल रखा था। जैसे ही लीडर शहीदों की प्रतिमा के साथ फोटो खिंचवाने आते थे, वह उन्हें एक साथ आकर खड़े हो जाते और लोगों अपने बैनरों के जरिए बता रहे थे कि शहीदों की प्रतिमा के साथ जल्द-जल्द तस्वीरें खिंचवाओं और Facebook and WhatsApp पर अपलोड करो। दरअसल, ये युवक लीडरों को ये संदेशा देने की कोशिश कर रहे थे कि आज शहीदों की प्रतिमाएं फोटो और सैल्फी खिंचचाने के लिए ही रह गई है।

शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए कांग्रेस पार्टी के सांसद संतोख चौधरी, विधायक राजिंदर बेरी, मेयर जगदीश राज राजा अपने साथियों सहित भगत सिंह चौंक में शहीद भगत सिंह को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे।

इसी तरह पूर्व विधायक मनोरंजन कालिया, रमन पब्बी अपने अन्य साथियों सहित भगत सिंह चौंक में शहीद भगत सिंह को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे।

महिलाओं ने भी शहीद भगत सिंह को श्रद्धांजलि के पुष्प अर्पण किए जिसमें विधायक सुशील रिंकू की पत्नी, पार्षद सुनीता रिंकू शामिल रहीं।