हिमाचल प्रदेश : एनएच-5 पर बर्फीला तूफान, रास्ते बंद, किब्बर से काजा के बीच 3 विदेशियों समेत 70 पर्यटक फंसे

1164

शिमला.  हिमाचल प्रदेश में बीते कई दिनों से चल रही बर्फबारी और तूफान का मौसम जारी है। इसी बीच रविवार को नैशनल हाइवे 5 पर किब्बर से काजा के बीच कई जगहों पर 3 विदेशियों समेत 70 पर्यटक फंस गए हैं। इन रास्तों पर बर्फीले तूफान के कारण रास्ते बाधित हो गए हैं और कई जगहों पर सड़कें बंद हो गई हैं। सड़कें खाली कराने के लिए ऑपरेशन जारी हैं। प्रदेश में भारी बर्फबारी, बारिश और तूफानों ने कई रास्तों को बंद कर रखा है। कुल्लू-मनाली हाइवे तक बंद हो गया है। कई जगहों पर भूस्खलन और हिमस्खलन होने की खबर है। बीते बुधवार से मौसम एकदम बदला हुआ है। इस दौरान आम लोगों को नुकसान होने की जानकारी नहीं है। 

उधर, मौसम विभाग के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश में 26 से 27 फरवरी तक बारिश और बर्फबारी के एक नए दौर की संभावना है। हिमाचल प्रदेश में इस सर्दी में लगातार बर्फबारी हो रही है और कड़ाके की ठंड पड़ रही है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के वैज्ञानिक मनीष राय ने बताया, “इस सर्दी (नवंबर से फरवरी) के दौरान हम पिछले साल की सर्दियों की तुलना में हिमालय क्षेत्र में लगातार और तीव्र पश्चिमी विक्षोभ देख रहे हैं।” पश्चिमी विक्षोभ के कारण भारतीय उपमहाद्वीप के पश्चिमोत्तर क्षेत्र में बारिश और बर्फबारी होती है। राय ने कहा कि 26 से 27 फरवरी और फिर एक से दो मार्च के बीच बारिश और बर्फबारी के नए दौर की संभावना है। 

राय ने कहा कि इस सर्दी 21 फरवरी तक राज्य में 246.5 मिलीमीटर बारिश व बर्फबारी दर्ज की गई और यह सामान्य 169.8 मिमी की तुलना में 45 प्रतिशत अधिक था। केवल फरवरी में सामान्य 98 मिलीमीटर की तुलना में 64 प्रतिशत अधिक वर्षा हुई। शिमला में जहां रविवार को न्यूनतम तापमान 5.5 डिग्री सेल्सियस रहा, पिछले सप्ताह बर्फबारी हुई थी। कुल्लू जिले का मनाली अब भी बर्फ की चादर से लिपटा हुआ है। यहां रात का तापमान 2.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। लाहौल-स्पीति का केलांग शून्य से 7.2 डिग्री कम तापमान के साथ राज्य में सबसे ठंडा रहा जबकि किन्नौर जिले के कल्पा में तापमान शून्य से 2.4 डिग्री नीचे दर्ज किया गया।