जालंधर (हरीश शर्मा). मंगलवार की सुबह कमिश्नरेट पुलिस के लिए अच्छी नहीं रही। तीन पुलिस मुलाजिमों की मीडिया के साथ की गई बदतमीजी के कारण पुलिस अधिकारियों को मीडिया के सामने आकर मिन्नतें करनी पड़ीं। पेमा प्रधान सुरिंदर पाल को मनाने आए डीसीपी गुरमीत सिंह ने बदतमीजी करने वाले सब इंस्पेक्टर लखविंदर सिंह, सिपाही इकबाल समेत तीन मुलाजिमों को सस्पेंड कर दिया। दरअसल सुबह करीब 12 बजे जब पुलिस मुलाजिम नाके पर वट्सएप-वट्सएप खेल रहे थे और स्काईलार्क चौक के पास डीपीआरओ दफ्तर के सामने बैरीकेडों के कारण गुरु नानक मिशन चौक तक जाम लग गया।

मीडिया कर्मियों को मनाते हुए डीसीपी गुरमीत सिंह, एसीपी हरसिमरत सिंह व अन्य।

मीडिया कर्मी मौके पर पहुंचे तो उन्होंने इसकी कवरेज की और इससे तिलमिलाए पुलिस मुलाजिम ने गाली निकाली। उसने पत्रकारों को गोली मारने तक की बात कह दी और अपनी असाल्ट तान दी। कैप्टन अमरिंदर का नाम लेने पर उसने कैप्टन और अरूसा की दोस्ती पर भी सवाल खड़े कर दिए। इस दौरान अजीत अखबार के फोटोग्राफर मनीष का भी चालान काटा गया। जब पेमा प्रधान सुरिंदर पाल मौके पर आए तो उनके साथ बहस और गलत तरीके से बात की गई। इसके बाद मौके पर पहुंचे पत्रकारों ने पहले डीपीआरओ दफ्तर और फिर गुरु नानक मिशन चौक जाम कर दिया।

इस मौके पेमा प्रधान सुरिंदर पाल, पंजाब प्रेस क्लब के सीनियर वाइस प्रेजीडेंट मनदीप शर्मा, जयहिंद के संपादक राजेश कपिल, पेमा सेक्रेटरी हरीश शर्मा, उप प्रधान संदीप साही, गगन वालिया समेत जीपी सिंह, अमृतपाल सिंह जंगी, बृजेश, रवि, विजय, कुलविंदर सिंह घुम्मन, टिंकू पंडित, सुक्रांत सफरी, संदीप भल्ला, जसप्रीत सिंह, स्वदेश ननचाहल, रमेश गाबा, गौरव, जसपाल कैंथ, लखबीर, रमेश नैयर, गुरवीर, राजेश कपिल, रजत ग्रोवर, वारिस मलिक, दविंदर सिंह चीमा, अभिनंदन, पंकज सिब्बल, नोनू, अजय समेत बड़ी गिनती में पत्रकारों ने रोष व्यक्त किया।