नीना मित्तल के नेतृत्व में डायरैक्टर खुराक सप्लाई को मिला शैलर मालिकों का वफद सरकार का रवैया नकारात्मक

414

चंडीगढ़,रोजाना भास्कर.(हरीश शर्मा)आम आदमी पार्टी के व्यापार विंग की प्रधान और राज्य के शैलर मालिकों की तरफ से पिछले दिनों न्यू पंजाब राइस मिलर्ज एसोसिएशन की चुनी गई एडहाक प्रधान मैडम नीना मित्तल के नेतृत्व में वीरवार को शैलर मालिकों का वफद पंजाब की डायरैक्टर खुराक और सप्लाई मैडम आनन्दिता मिश्रा को मिला और धान के सीजन दौरान विकराल बनी चुनौतियों को तुरंत हल करने की मांग की, परंतु सरकार के नकारात्मक रवैये की निंदा की।
‘आप’ हैडक्वाटर द्वारा जारी बयान में मैडम नीना मित्तल ने बताया कि वफद में राकेश सिंगला, रमन जिन्दल, विजय जिन्दल, मुकेश कुमार, रिम्पी मित्तल, रत्न गर्ग, सुरिन्दर गर्ग, धीरज गर्ग, हरदेव सिंह और ‘आप’ की कोर ालर समिति मैंबर और स्टेट मीडिया हैड मनजीत सिंह सिद्धू शामिल थे।
वफद ने बताया कि इस सीजन में मिलिंग के उपरांत इस धान से लगभग 115 लाख मीटरिक टन चावल तैयार होगा। नई कस्टम पालिसी के अंतर्गत यह तारीख 31 मार्च 2020 तय की गई है। शैलर इस तारीख तक चावल डिलीवरी करने में असफल रहेगा तो उस पर 12 प्रतिशत ब्याज भरने की शर्त भी लगाई गई है। जबकि कम से कम 70 लाख मीटरिक टन की समर्था वाले खाली गोदाम जरुरी हैं, परंतु इस समय राज्य भर के गोदामों में केवल 18 लाख मीटरिक टन के करीब चावल लगाने की ही जगह खाली है। इस मुद्दे पर डायरैक्टर ने स्पष्ट किया कि यदि गोदामों में अपेक्षित जगह नहीं बनती तो ब्याज नहीं लगेगा। डायरैक्टर ने गोदामों ( भंडारण) का मुद्दा केंद्र के पास उठाए जाने का भरोसा तो दिया परन्तु ठोस रूप में यह नहीं बताया कि इस समस्या का हल कब तक कर दिया जाएगा।
इसी तरह नई नीति के अंतर्गत भी सिक्योरिटी राशि 5 लाख रिफंड भी नहीं किया जा रहा। जिससे शैलर इंडस्ट्री पर सालाना 200 की बजाए सीधा 400 करोड़ का वित्तीय बोझ पड़ेगा। इस लिए नई ली गई सिक्योरिटी राशि की शर्त वापिस ली जाए। इस पर श्रीमती मिश्रा ने इस को वाजिब बताया और कहा कि जब शैलर मालिक अपना कारोबार बंद कर देंगे तो नॉन रिफंडएबल राशि भी वापस कर देगी। पुराने आडिट के मुद्दे को भी डायरैक्टर ने केंद्र के पाले में फैंक दिया। मैडम आनिन्दता मिश्रा ने कस्टम मिलिंग पालिसी के अंतर्गत आइपीसी की धारा 7 ई. सी. को सही ठहराया।
नीना मित्तल ने कहा कि शैलर मालिकों की पंजाब की खरीद एजेंसियों की तरफ 1000 करोड़ से अधिक का बकाया है, परंतु चंद डिफालटर शैलरों के कारण सरकार सारी शैलर इंडस्ट्री को ही चोरों की तरह देखती है। जो कि बेहद निंदनीय पहुंच है। नीना मित्तल ने कहा कि डायरैक्टर आनन्दिता मिश्रा की दलीलों से कैप्टन सरकार का धान के सीजन को पेश बारदाने की बकाया राशि के बारे में डायरैक्टर आनन्दिता मिश्रा ने भरोसा दिया कि आज से अलग-अलग जिलों को बकाया राशि जारी होनी शुरू हो गई है। अगले 2-4 दिनों में सारी बकाया राशि कलियर कर दी जाएगी।
नीना मित्तल ने कहा कि सरकार पंजाब के गोदाम खाली करवाने में नाकाम रही है जबकि हरियाणा में इस तरह की कोई समस्या नहीं आ रही। मैडम नीना मित्तल ने कहा कि यदि सरकार ने आगामी दिनों में शैलर मालिकों समेत किसानों, लेबर, आढतियों और ट्रांसपोर्टरों को धान के सीजन में आ रही समस्याओं का कोई हल न निकाला तो लोक हितों के लिए न्यू पंजाब राइस मिल्लर एसोसिएशन ‘आप’ की मदद के साथ सरकार का घेराव करेगी।