चुनाव राजनीति… काम करवाने के बाद पैसे देना भूले एमपी चौधरी, प्रेस कांफ्रेंस करेंगे संगठन, चुनाव आयोग को होगी खर्चे की शिकायत

1587

एमपी चौधरी जैसा नेता देश का क्या भला करेगा, जो किसी की मेहनत के पैसे न दे
पैसे न मिले तो डीसी ऑफिस के बाहर बैठेंगे भूख हड़ताल पर

जालंधर (हरीश शर्मा). चुनाव में करोड़ों की संपत्ति दर्शाने वाला चौधरी परिवार आज मेहनतकश लोगों के पैसे दबाकर बैठा है। चुनाव के समय चौधरी परिवार ने प्रचार सामग्री के लिए लाखों रुपए का काम करवा लिया लेकिन अब पैसे मांगने वाले पीछे-पीछे घूम रहे हैं जबकि चौधरी संतोख सिंह और उनका बेटा बिक्रमजीत सिंह टालमटोल कर रहे हैं। जिन लोगों ने चौधरी से पैसे लेने हैं, उन्होंने अब प्रेस कांफ्रेंस करने और चुनाव आयोग तक शिकायत करने का मन बनाया है। बुधवार को की गई मीटिंग में तय किया गया कि सभी कैप्टन अमरिंदर सिंह से भी मिलेंगे।
जिक्रयोग है कि चुनाव के दौरान जालंधर में एमपी बने चौधरी संतोख सिंह के चुनाव प्रचार की सामग्री तैयार करने में व्यापारियों के अलावा मजदूर तबके के भी पैसे मार लिए गए हैं। इनका आरोप है कि बिक्रमजीत सिंह चौधरी तो अब उनका फोन तक नहीं उठा रहे। कभी गलती से फोन उठा भी लें तो बाद में उस नंबर को ब्लाक कर देते हैं। बुधवार की मीटिंग में वीडियो एलईडी बनाने वाले ने 8 लाख रुपए, चार फ्लेक्स वालों ने 15 लाख, 5 लाख, 4 लाख और 3 लाख रुपए का बिल अदा न करने का दावा किया। उन्होंने कहा कि अगर उनके पैसे नहीं मिले तो वे चौधरी के खिलाफ डीसी दफ्तर के बाहर भूख हड़ताल पर बैठेंगे।
इस दौरान बताया गया कि लाइट एंड साउंड वाले ने भी इनसे पैसे लेने थे लेकिन वह ‘चौधरी दरबार’ के चक्कर लगाते-लगाते जिंदगी की जंग तक हार गया। पैसे लेने वाले के निधन के बाद उनका बेटा इनके पास पैसे मांगने जाता रहा लेकिन चौधरी परिवार को रहम नहीं आया। उस परिवार ने लोगों से उधार पैसे लेकर रस्में आदि पूरी कीं।